आइजीएमसी से डिस्चार्ज मरीज की चक्का जाम में फस कर मौत, मामला दर्ज

शिमला।आईजीएमसी से डिस्चार्ज किए गए एक मरीज की जाम में फंसकर मौत होने का मामला सामने आया है। थाना ठियोग में अब इसको लेकर एफआईआर दर्ज हुई है
सुरेश कुमार पुत्र मैन राम गांव टिक्करी तहसील चिढ़गांव जिला शिमला ने पुलिस मामला दर्ज करवाया है कि बीते शुक्रवार को मेरे ससुर को आईजीएमसी से डिस्चार्ज किया गया। वे उनको लेकर घर ले जा रहे थे, रास्ते में फिर से इनकी तबीयत बिगड़ गई। उन्हें ऑक्सीजन की कमी महसूस होने लगी, लेकिन जब वह फागू पहुंचे तो वहां पर ट्रैफिक जाम था, मैं पैदल भेखलटी तक आया, जहां पर सीपीआईएम नेता राकेश सिंघा, कुलदीप तंवर, सुरेश,पूर्व प्रधान बालकृष्ण, रमेश भोटका आदि पानी की समस्या को लेकर धरना दे रहे थे। पुलिस से बातचीत कर मैंने बड़ी मुश्किल से गाड़ी निकालकर सिविल अस्पताल ठियोग पहुंचाई।
यहां पर अपने ससुर को चैक करवाया, लेकिन मेडिकल ऑफिसर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।
थाना ठियोग में मुकदमा नंबर 80/2022 IPC की धारा 341 143 304 A के तहत दर्ज किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उनके मरीज की मौत का कारण सीपीआईएम नेता के एनएच 05 बंद करने से हुआ है। जिस पर अब मुकदमा दर्ज किया गया है।

पानी की कमी को लेकर डेढ़ घंटे तक तक किया था चक्का जाम
उपमंडल ठियोग की पंचायत में पानी की किल्लत को लेकर लोग भड़क गए थे। आठ से 10 दिन बाद पानी की सप्लाई होने पर गुस्साए लोगों ने शिमला-किन्नौर राष्ट्रीय राजमार्ग पर भेखलटी में करीब डेढ़ घंटे तक चक्का जाम किया। इस दौरान सड़क के दोनों ओर लंबा जाम लग गया। ठियोग के विधायक राकेश सिघा के नेतृत्व में सैकड़ों लोगों ने ये प्रदर्शन किया था।