कॉलेज खुले परीक्षाए शुरू, सरकार के दिशानिर्देशों का किया गया पालन

शिमला: प्रदेश के कॉलेजों में वीरवार को स्नातक व शास्त्री अंतिम वर्ष की परीक्षाए शुरू हुई। कोविड 19 से बचाव के लिए जरूरी दिशा निर्देशों को ध्यान में रखते हुए प्रदेश भर में स्थापित 156 परीक्षा केंद्रों पर ये परीक्षाए शुरू हुई। विवि प्रशासन सहित कॉलेज प्रबंधनों ने सुचारू रूप से परीक्षाए संचालन करने के लिए व्यवस्थाए की है। इसके तहत पहले दिन परीक्षा केंद्रों पर विद्यार्थियों व स्टाफ की थर्मल स्केंनिंग के बाद ही उन्हें परीक्षा केंद्रों में जाने की अनुमति दी गई। इसके अलावा केंद्रों पर सेनेटाइजर की व्यवस्था की गई थी और सोशल डिस्टेंसिंग की अनुपालना करने के लिए भी स्टाफ की तैनाती की गई है। ये परीक्षाए अगस्त माह के मध्य तक चलेगी। पहले दिन राजनीतिक विज्ञान व केमिस्ट्री के अलावा कई अन्य विषय की परीक्षा आयोजित हुई और परीक्षाए सुचारू रूप से आयोजित हुई। राजधानी के कॉलेजों में स्नातक फाइनल वर्ष की परीक्षाएं शुरू हो गई है और इसके तहत विद्यार्थियों को किसी प्रकार की कोई दिक्कते न आए इसके लिए स्टाफ की अलग से तैनाती की गई है।  परीक्षा दो सत्र में आयोजित की गई। वहीं दूसरे सत्र में आयोजित होने वाली परीक्षा से पूर्व परीक्षा हॉल को सैनाटाईज किया गया। बता दे कि आर.के.एम.वी कॉलेज में लगभग 250 से अधिक छात्राओं ने परीक्षा दी , जबकि सेंटर ऑफ एक्सीलैंस कॉलेज संजौली में करीब 420 छात्रों ने परीक्ष दी। कॉलेज प्रधानाचार्यों के अनुसार ऐसी कोई भी मामला नहीं आया जिसमें वैक्सीनेशन के चलते छात्र परीक्षा देने नहीं पहुंचे हो। हालांकि बिना एडमिट कार्ड के कुछ छात्रों को दिक्कत भी आई।  संजौली कॉलेज प्रधानाचार्य डॉ सी.बी मेहता ने बताया कि जिन छात्रों के पास एडमिट कार्ड नहीं थे उनसे प्रार्थना पत्र ले लिया गया है और बिना एडमिट कार्ड के छात्रों को परीक्षा देने की अनुमति दे दी गई, लेकिन अन्य पेपरों के लिए इस तरह की व्यवस्था नहीं हो सकेगी। केवल कॉलेज स्तर पर कोई प्रक्रिया रहती है।पसंदीदा परीक्षा केंद्र पर विद्यार्थियों को बैठने की दी गई अनुमतिकोविड 19 के कारण उत्पन परिस्थितियों को दे ाते हुए हिमाचल प्रदेश विवि ने विद्यार्थियों को अपने अपने घरों के नजदीक बने परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा देने की अनुमति दी गई है। कई विद्यार्थी अभी गांव में होने के चलते नजदीकी परीक्षा केंद्रों पर ही परीक्षा देने के इच्छुक है। ऐसे में विद्यार्थियों ने अपने कॉलेज प्रशासन को पूर्व सूचना देकर नजदीकी परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा दी। कॉलेज प्रबंधनों ने भी तमाम औपचारिकताए पूरी कर विद्यार्थियों को परीक्षा में बैठने की व्यवस्था की।वैक्सीनेशन के बाद विद्यार्थियों को आया बुखार, परीक्षा देने में आई परेशानीकॉलेजों के विद्यार्थियों के लिए परीक्षा से पहले प्रशासन द्वारा वैक्सीन लगाने की व्यवस्था के तहत कई विद्यार्थियों ने बीते 28 व 29 जून को कोविड 19 से बचाव के लिए वैक्सीन लगाई थी, लेकिन इसके बाद विद्यार्थियों को बुखार आने की वजह से उन्हें वीरवार को परीक्षा देने में दिक्कते आई। इस मामले पर विद्यार्थियों का कहना था कि परीक्षाओं से पूर्व वैक्सीन लगाने की व्यवस्था कुछ दिन पूर्व की जानी चाहिए थी। परीक्षाओं से ठीक पहले वैक्सीन लगाने की व्यवस्था करना उचित नहीं था।

About Author

You may have missed