September 25, 2023

ब्रेन स्ट्रोक से पीडित 82 वर्षीय महिला का फोर्टिस मोहाली में मैकेनिकल थ्रोम्बेक्टोमी के माध्यम से सफल इलाज,,,डा. विवेक अग्रवाल

 

यदि समय पर जांच करवा ली जाए तो एक लक्ष्ण से बीमारी की असली स्थिति का पता लग जाता है। ऐसे में उक्त लक्ष्ण दिमाग से जुड़ा हुआ हो तो थोड़ी से बरती लापरवाही से व्यक्ति ब्रेन स्ट्रोक (दिमाग का दौरा पडने के कारण एक जटिल दिमागी बीमारी की चपेट में आ सकता है। आज ब्रेन स्ट्रोक / अधरंग जैसे रोग संबंधी जागरूकता पैदा करने के लिए जाने माने इंटरवेशनल न्यूरोरेडयोलॉजिस्ट डा. विवेक अग्रवाल ने शुक्रवार को पत्रकार वार्ता के दौरान बताया कि ब्रेन स्ट्रोक पडने पर यदि मरीज को तुरंत ऐसे अस्पताल पहुंचाया जाए, जहां अनुभवी न्यूरोलॉजिस्ट व न्यूरो सर्जन हों तो मरीज जल्द स्वस्थ व अधरंग के असर को कम या खत्म किया जा सकता है। डा. विवेक अग्रवाल ने कहा कि न्यूरो से संबंधित बीमारियों के लक्ष्ण दिमागी हालत से जुड़े होते हैं, जिनमें भूल जाना, चेतना की कमी, एक दम व्यक्ति के व्यवहार में बदलाव आना, क्रोधित होना व तनावग्रस्त आदि लक्ष्ण • शामिल हैं। उन्होंने कहा कि यदि न्यूरोलॉजी से संबंधित मरीज का इलाज नहीं करवाया जाता तो इसके गंभीर परिणाम निकल सकते हैं।

डा. विवेक अग्रवाल ने बताया कि हाल ही में ब्रेन स्ट्रोक के बाद चार घंटे बाद बेहोशी की हालत में 82 वर्षीय बुजुर्ग मरीज उनके पास पहुंची। उनके शरीर के बाएं हिस्से को लकवा हो गया था। चिकित्सा उपचार में यदि थोड़ी देर हो जाती तो वह महिला मरीज को घातक स्थिति में पहुंचा सकती थी। मरीज के दिमाग के दाहिनी और अवरूद्ध हुई रक्त आपूर्ति को मैकेनिकल थ्रोम्बेक्टोमी की मदद से आर्टरी से क्लाट को हटा दिया गया। उन्होंने कहा कि मैकेनिकल थ्रोम्बेक्टोमी को ब्रेन स्ट्रोक के रोगियों के लिए गोल्ड स्टेंडर्ड माना जाता है, वहीं मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ है। उन्होंने कहा कि दिमागी दौरा या लकवा मारने पर बिल्कुल भी घबराने की जरूरत नहीं है। उन्होंने बताया कि ब्रेन स्ट्रोक के उपचार में क्रांतिकारी बदलाव आने से गंभीर से गंभीर मरीज स्वस्थ हो रहे हैं।

उन्होंने कहा कि ब्रेन स्ट्रोक पडने पर मरीज को पूरी तरह से बचाया जा सकता है, बशर्ते उसे ऐसे अस्पताल पहुंचाया जाए, जहां एडवांस स्ट्रोक देखभाल की सुविधाएं उपलब्ध हों, क्योंकि दिमागी दौरे के दौरान मरीज के लिए हर सैकेंड मायने रखता है। उन्होंने कहा कि यदि अस्पताल व्यापक स्ट्रोक सुविधाओं से लैस नहीं है, तो मरीज को ऐसे अस्पताल में पहुंचाना व्यर्थ या समय बर्बाद है। मरीज स्वास्थ्य सुविधाए न मिलने के कारण औसतन स्ट्रोक में हर मिनट 1.9 मिलियन न्यूरॉन्स खो देता है, जो हमेशा अधरंग या मौत का कारण बनता है।उन्होंने बताया कि हमारे पास अभी 6 से आठ घण्टे वाले मरीज आए,एक घण्टे का समय गोल्डन समय होता है उसे हम दूसरे दिन अस्पताल से छुटी दे देते हैं।हर महीने 2 से 3 मरीज हर माह हिमाचल से आते हैं।700 मरीजो का कर चुके हैं इलाज।

About Author