February 22, 2024

टुटू  में बंदरों के डर छत से गिरी युवती ,मौत

 

शिमला।राजधानी शिमला में बंदर जानलेवा होते जा रहे हैं बंदरों के डर से कई मौतें हो चुकी हैं ताजा मामले में
राजधानी शिमला के उप नगर टुटू के ढांढा में 20 वर्षिय युवति की भवन की तीसरी मंजिल से गिरकर मौत हो गई है। हादसा सोमवार दोपहर 4:30 बजे के करीब पेश आया। युवति घर की छत्त पर थी। इसी दौरान वहां पर आए बंदर ने उस पर हमला कर दिया। बंदर के हमले के डर से वह वहां से भागने लगी इस दौरान उसका संतुलन बिगड़ गया और वह भवन की छत्त से नीचे गिर गई। इसकी मौत हो गई। स्वजन व स्थानीय लोग युवती को उपचार के लिए आईजीएमसी ले गए। जहां चिकित्सों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मृतक युवती की पहचान हिमांशी पुत्री अशोक शर्मा के रूप में हुई है। यह कॉलेज में पढ़ती थी। युवती के पिता की ढांडा में दुकान है। इस हादसे से क्षेत्र में शोक की लहर है। शिमला शहर में बंदरों के आतंक से लोग परेशानी हो चुके हैं।

 

लोअर बाजार व कुफ्टाधार में भी हो चुकी है मौत

जुलाई 2020 में भी शिमला शहर के कुफ्टाधार क्षेत्र में बंदरों के हमले में एक महिला की मौत हो गई थी। महिला घर की छत पर कुछ काम कर रही थी, इसी दौरान बंदर उस पर झपट पड़े। बंदरों के डर से महिला छत से नीचे जा गिरी। महिला को तुरंत आईजीएमसी लाया गया जहां उपचार के दौरान उसने दम तोड़ दिया।

 

2015 में मिडल बाजार में पेश आया था हादसा

वर्ष 2015 में शहर के मिडल बाजार में भी इस तरह का मामला पेश आया था। यहां भी एक महिला की छत से गिरने से मौत हो गई थी। बंदरों के हमले से एक पूर्व अधिकारी की मौत हो गई थी। वहीं सोलन जिला में बंदर के डर से महिला ने दूसरी मंजिल से छलांग लगा दी थी।

 

2013 में नौबहार में काली ढांक पर चेल्सि स्कूल की 2 स्कूल की छात्राएं पहाड़ी से गिर गई थी और उनकी मौके पर मौत हो गई थी उस समय भी मौत का कारण बंदरों के डर के कारण हुआ था

About Author

You may have missed