February 28, 2024

12 दिसंबर को बिलासपुर में आयोजित होगी ‘हिमाचल प्रदेश सोशल मीडिया मीट’

Featured Video Play Icon

 

शिमला, विश्व संवाद केन्द्र, न्यास, हिमाचल, 12 दिसंबर, 2023 को प्रदेशभर के प्रतिभावान सोशल मीडिया क्रिएटर्स के लिए बिलासपुर में ‘हिमाचल प्रदेश सोशल मीडिया मीट-2023’ आयोजित कर रहा है।
प्रदेश में विभिन्न आयामों में सक्रिय प्रभावकों (Influencers) को एक मंच के माध्यम से एकत्रित करने और राष्ट्र, समाज व प्रदेश के लिए सार्थक संवाद पर बल देने के उद्देश्य से आयोजित हो रही ‘हिमाचल प्रदेश सोशल मीडिया मीट 2023 – #HPSMM23’ में फ़ेसबुक, यूट्यूब, इंस्टाग्राम, ट्विटर (X), आदि सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर सक्रिय 100 से अधिक प्रभावक भाग लेंगे।
कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख श्री सुनील आंबेकर, हिमाचल प्रांत कार्यवाह डॉ क़िस्मत कुमार तथा अभिनेत्री सुश्री कंगना रनौत मुख्य वक्ता होंगे।
अपने ध्येय वाक्य – संवादात सौहार्दम – अर्थात् ‘संवाद से सौहार्द’ के अनुरूप, विश्व संवाद केन्द्र हिमाचल इस कार्यक्रम के माध्यम से देवभूमि के प्रतिभाशाली प्रभावकों, जो अपने गाँव-शहर से लेकर प्रदेश और यहाँ तक कि देशभर में अपनी रचनात्मक विधा से एक अनूठी छाप छोड़ रहे हैं, उन्हें एक प्रभावी मंच उपलब्ध कराना है।
इस सोशल मीडिया मीट के माध्यम से प्रभावकों को परस्पर जानकारी साझा करने और संगठित होकर अपने चयनित क्षेत्र में कार्य करने में मदद मिलेगी।
‘हिमाचल प्रदेश सोशल मीडिया मीट-2023’ बिलासपुर स्थित पूर्णम् मॉल में मंगलवार, 12 दिसंबर को आयोजित होगी। कार्यक्रम प्रातः 10 बजे प्रारंभ होगा।
सोशल मीडिया मीट हेतु प्रतिभागियों को विश्व संवाद केन्द्र ,हिमाचल द्वारा प्रसारित ऑनलाइन फॉर्म (लिंक: https://t.ly/hCZAK ) के माध्यम से पंजीयन अनिवार्य है।
समाज के सभी वर्गों में सोशल मीडिया के बढ़ते उपयोग के बीच, राष्ट्रीय विचारों और सामाजिक सरोकार से लेकर, ख़ान-पान, वेश-भूषा, कला, भाषा, संस्कृति, पर्यटन, मनोरंजन, आदि क्षेत्रों में सक्रिय प्रदेश के प्रतिभावान सोशल मीडिया क्रियेटर्स आज समाज में अपनी सकारात्मक भूमिका निभाने के लिए तत्पर हैं।
‘हिमाचल प्रदेश सोशल मीडिया मीट-2023’, प्रदेश का इस तरह का पहला मंच होगा, जो विभिन्न क्षेत्रों में सकारात्मक भूमिका निभा रहे सोशल मीडिया क्रिएटर्स को एकीकृत कर उन्हें परस्पर विचार-विमर्श व सहयोग हेतु एक परितंत्र विकसित करने में मील का पत्थर सिद्ध होगा।

About Author